पुलिस अधीक्षक, जैसलमेर का स्वतंत्रता दिवस पर सन्देश

स्वतंत्रता की 71वीं वर्षगांठ के पावन पर्व पर आप सभी जैसलमेर वासियों को मेरी तरफ से एवं जिला पुलिस की तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं एवं अभिनंदन

स्वतंत्रता के इस पावन पर्व पर मैं, गौरव यादव, अपने विचार आपके समक्ष व्यक्त करना चाहता हूंः-

जैसलमेर अपने प्राकृतिक सुनहरी सुन्दरता के लिए पूरे विश्व में शानदार पहचान बना चुका है तथा गोल्डन सीटी के नाम से विश्व विख्यात पर्यटन स्थली है। यहां आने वाले सैलानियों का ध्यान सबसे पहले सड़को की स्वच्छता एवं सुरक्षा की तरफ जाता है। कहते है ‘‘फस्र्ट इम्प्रेशन इज द लास्ट इम्प्रेशन’’। हालांकि सड़कों के रख रखाव की जिम्मेदारी सरकारी एजेन्सियों की है किन्तु यदि हम सब नागरिक अपना अपना घर व आस-पास सफाई रखें तथा सड़को को गन्दा न करें। तो स्वच्छता के स्तर में अभूतपूर्व वृद्धि आयेगी। राह चलते राहगीर निर्धारित स्थान पर ही कचरा पात्र में कचरा डालें, आईये हम सब मिलकर ‘‘स्वच्छ भारत - स्वच्छ राजस्थान - स्वच्छ जैसलमेर’’ बनावें।
सड़क की सफाई के साथ ही साथ दूसरा पहलू सड़क पर सुरक्षा का भी है। पुलिस सड़क सुरक्षा हेतु अपने कर्तव्य का निरन्तर निर्वहन कर रही है परन्तु यह कार्य आमजन के सम्पूर्ण सहयोग के बिना पूर्ण नहीं हो सकता है। अतः प्रत्येक नागरिक का दायित्व है कि वह यातायात नियमों का पालन करें जैसे दो पहिया वाहन चालक हैलमेट का प्रयोग करें व चैपहिया वाहन चालक सीट बैल्ट का प्रयोग करें। इसके साथ-साथ किसी को कोई भी व्यक्ति शरारत या बदमाशी करता दिखे तो तुरन्त पुलिस को सूचित करें, हो सके तो आॅडियो / विडियो बनाकर प्रेषित करें ताकि अवांच्छित तत्वों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जा सकें। हर व्यक्ति के अधिकार के साथ कर्तव्य भी है, जब प्रत्येक नागरिक अपनी ड्यूटी करेगा तथा नियमोें का पालन करेगा तब सड़क पर दुर्घटना में कमी आ सकेगी तथा अपराधों की रोकथाम भी हो सकेगी। 

पर्यटन से सम्बन्धित एक गम्भीर समस्या लपको की भी है जो सैलानियों का ध्यान आकर्षित करते है तथा उन्हे परेशान करते है। इस सम्बन्ध में पुलिस अपना कार्य कर रही है तथा इस वर्ष इस कार्य को और गति प्रदान करेगी। इस सम्बन्ध में आप सभी नागरिकों से अपेक्षा है कि लपकों को पनाह न दे, यदि कोई लपकागिरी करता हो तो पुलिस को तुरन्त इतला करें तथा यहां आने वाले पर्यटकों को सुरक्षा का अहसास करावें एवं यहां आने वाले पर्यटकों के समक्ष जैसलमेर की अच्छी छवि पेश करें। 

पर्यटन नगरी होने के साथ साथ जैसलमेर भारत का सीमावर्ती जिला है। जिसके कारण इसका सामरिक दृष्टि से अपना अलग महत्व है। जैसलमेर जिले से 471 किमी अन्तर्राष्ट्रीय सीमा लगती है। देश की सुरक्षा एजेन्सिया सीमा की सुरक्षा तत्परता से करती है। लेकिन देश के जिम्मेदार नागरिक होने के कारण देश की सुरक्षा का दायित्व हम सब का है। यदि कोई संदिग्ध व्यक्ति या वस्तु दिखे तो इसकी सूचना तुरन्त पुलिस को दें।

आज के डिजीटल युग में सोशल मीडिया का प्रचलन दिनो दिन बढ़ा है, प्रत्येक व्यक्ति के हाथ में स्मार्ट फोन / टेबलेट है तथा वह सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते है। किसी को जाने बिना ही फ्रेन्ड रिक्वेस्ट भेज देेते है तथा अनजान व्यक्ति की फ्रेन्ड रिक्वेस्ट स्वीकार कर लेते है इस सम्बन्ध में प्रत्येक व्यक्ति को सजग रहना होगा। सोशल मीडिया पर सोच-समझकर ही फै्रन्डस बनावे एवं विचार व्यक्त करें तथा कोई भी फोटो/विडियो/आॅडियो काॅपी-पेस्ट करने से पहले उसके बारे में संतुष्टि कर ले कि वह देश की सुरक्षा व्यवस्था या धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाना वाला नहीं हो, ताकि देश की सुरक्षा व्यवस्था एवं आपसी भाईचारा बना रहे। 

जैसलमेर सीमावर्ती जिला होने से हम सब का अतिरिक्त दायित्व है कि जाति, धर्म, साम्प्रदायिकता से उपर उठकर जैसलमेर जिले का सुरक्षित रखे व संयुक्त रूप से विकास की ओर अग्रसर करें जिससे देश की एकता, अखण्डता व आपसी सौहार्द कायम रह सकें।

जिला जैसलमेर में साम्प्रदायिक सौहार्द के रूप में विख्यात बाबा रामदेवजी का मेला लगता है। वर्तमान में बाबा के दर्शनार्थ राज्य के साथ-साथ देश के विभिन्न जगहों से दर्शनार्थियों का आवागमन हो रहा है। इस सम्बन्ध में दर्शनार्थियों व जिलेवासियों से मेरा अनुरोध है कि मेले में व्यवस्था बनाये रखे तथा आने-जाने वाली सड़कों पर भी ऐसी व्यवस्था हो कि आने वाले दर्शनार्थी सहज एवं सुरक्षित महसूस करें, क्योंकि हमारे यहां आने वाल हर दर्शनार्थी/पर्यटक हमारा अतिथि है ‘‘अतिथी देवों भवः’’ भारत की संस्कृति है तो अतिथियों का सम्मान तथा सुरक्षा करना हमारी जिम्मेदारी है जिसे हमें सजग रहकर पूरा करना है।

वर्तमान मेें जैसलमेर का उतरोत्तर विकास हो रहा है, यहां पर खनिजों व प्राकृतिक उर्जा का विशाल भण्डार है तथा इसके कारण विभिन्न प्रकार के औद्योगिक संस्थानों का विकास हुआ है। दूसरी ओर इंदिरा गांधी नहर की वजह से जिले की काया पलट हो गई है। रेगिस्तान के रूप में जाना जाने वाला जिला हरा-भरा एवं पयर्टन नगरी तथा विकसित जिले की श्रैणी में आ रहा है। 

जैसलमेर के विकास के लिए प्रत्येक व्यक्ति को विकासोन्मुख सोच विकसित करनी चाहिए क्योंकि आज जैसलमेर मेें खनिज, उद्योग, पर्यटन व नहर के कारण विकास हुआ है यदि प्रत्येक व्यक्ति उपलब्ध संसाधनों का सकारात्मक रूप से व विकासोन्मुख उपयोग करें तो जिले का वर्तमान से तीन-चार गुणा तेजी से विकास हो सकता है तथा जैसलमेर देश व राज्य के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान कर सकता है।

अपनी बात को समाप्त करने पहले मैं चाहुंगा कि 71वें स्वतंत्रता दिवस के इस पावन पर्व पर हम संकल्प ले कि: 

"जाति, धर्म व साम्प्रदायिकता की भावना से उपर उठकर सजग, स्वच्छ, सम्पन्न एवं सुदृढ समाज का निर्माण करें एवं भारत देश की एकता, अखण्डता एवं सम्प्रभुता बनाये रखें।"

हमारी स्वच्छ मानसिकता ही स्वतंत्र भारत की पहचान है।

                 जय हिन्द


4 comments:

  1. गौरव यादव एक अच्छे आईपीएस हैं जहाँ भी जाएंगे मैं उम्मीद करता हूँ वहां सिस्टम को सुधारेंगे।
    शुभकामनाये

    ReplyDelete
  2. Happy Independence Day.
    Your commitment towards society is appreciable.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Happy Independence day and Thanks a lot for the appreciation.

      Delete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...