सकारात्मक

चला जा रहा हूँ , चला जा रहा हूँ |
उँचे पहाड़ों पे , उठता हुआ मैं |

चला जा रहा हूँ , चला जा रहा हूँ |
नीचे है घाटी या कोई समुंदर |
गहराई में गिरता , चला जा रहा हूँ |
चला जा रहा हूँ , चला जा रहा हूँ |

वो कानन, कुसुम और कोमल से नभचर |
वो उँची उड़ाने , चला जा रहा हूँ |
वो नाचते निर्झर , वो नीर निरंतर |
कल-कल का गुंजन , चला जा रहा हूँ |

हरी सी वो चादर जो खुद मे लपेटे |
वो भूरा सा भूदर, चला जा रहा हूँ |
वो स्वेत सा ओढन, जो लगता है अंबर |
मेघों मे भीगता मैं, चला जा रहा हूँ |

हैं साथी जो पथ मे वो साथ समान्तर |
कर में मैं कर कर , चला जा रहा हूँ |
चला जा रहा हूँ , चला जा रहा हूँ |

उँचे पहाड़ों पे , उठता हुआ मैं |
चला जा रहा हूँ , चला जा रहा हूँ |
                 

No comments:

Post a Comment

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...