Skip to main content

पुलिस अधीक्षक, जैसलमेर का स्वतंत्रता दिवस पर सन्देश

स्वतंत्रता की 71वीं वर्षगांठ के पावन पर्व पर आप सभी जैसलमेर वासियों को मेरी तरफ से एवं जिला पुलिस की तरफ से हार्दिक शुभकामनाएं एवं अभिनंदन

स्वतंत्रता के इस पावन पर्व पर मैं, गौरव यादव, अपने विचार आपके समक्ष व्यक्त करना चाहता हूंः-

जैसलमेर अपने प्राकृतिक सुनहरी सुन्दरता के लिए पूरे विश्व में शानदार पहचान बना चुका है तथा गोल्डन सीटी के नाम से विश्व विख्यात पर्यटन स्थली है। यहां आने वाले सैलानियों का ध्यान सबसे पहले सड़को की स्वच्छता एवं सुरक्षा की तरफ जाता है। कहते है ‘‘फस्र्ट इम्प्रेशन इज द लास्ट इम्प्रेशन’’। हालांकि सड़कों के रख रखाव की जिम्मेदारी सरकारी एजेन्सियों की है किन्तु यदि हम सब नागरिक अपना अपना घर व आस-पास सफाई रखें तथा सड़को को गन्दा न करें। तो स्वच्छता के स्तर में अभूतपूर्व वृद्धि आयेगी। राह चलते राहगीर निर्धारित स्थान पर ही कचरा पात्र में कचरा डालें, आईये हम सब मिलकर ‘‘स्वच्छ भारत - स्वच्छ राजस्थान - स्वच्छ जैसलमेर’’ बनावें।
सड़क की सफाई के साथ ही साथ दूसरा पहलू सड़क पर सुरक्षा का भी है। पुलिस सड़क सुरक्षा हेतु अपने कर्तव्य का निरन्तर निर्वहन कर रही है परन्तु यह कार्य आमजन के सम्पूर्ण सहयोग के बिना पूर्ण नहीं हो सकता है। अतः प्रत्येक नागरिक का दायित्व है कि वह यातायात नियमों का पालन करें जैसे दो पहिया वाहन चालक हैलमेट का प्रयोग करें व चैपहिया वाहन चालक सीट बैल्ट का प्रयोग करें। इसके साथ-साथ किसी को कोई भी व्यक्ति शरारत या बदमाशी करता दिखे तो तुरन्त पुलिस को सूचित करें, हो सके तो आॅडियो / विडियो बनाकर प्रेषित करें ताकि अवांच्छित तत्वों के विरूद्ध सख्त से सख्त कार्यवाही की जा सकें। हर व्यक्ति के अधिकार के साथ कर्तव्य भी है, जब प्रत्येक नागरिक अपनी ड्यूटी करेगा तथा नियमोें का पालन करेगा तब सड़क पर दुर्घटना में कमी आ सकेगी तथा अपराधों की रोकथाम भी हो सकेगी। 

पर्यटन से सम्बन्धित एक गम्भीर समस्या लपको की भी है जो सैलानियों का ध्यान आकर्षित करते है तथा उन्हे परेशान करते है। इस सम्बन्ध में पुलिस अपना कार्य कर रही है तथा इस वर्ष इस कार्य को और गति प्रदान करेगी। इस सम्बन्ध में आप सभी नागरिकों से अपेक्षा है कि लपकों को पनाह न दे, यदि कोई लपकागिरी करता हो तो पुलिस को तुरन्त इतला करें तथा यहां आने वाले पर्यटकों को सुरक्षा का अहसास करावें एवं यहां आने वाले पर्यटकों के समक्ष जैसलमेर की अच्छी छवि पेश करें। 

पर्यटन नगरी होने के साथ साथ जैसलमेर भारत का सीमावर्ती जिला है। जिसके कारण इसका सामरिक दृष्टि से अपना अलग महत्व है। जैसलमेर जिले से 471 किमी अन्तर्राष्ट्रीय सीमा लगती है। देश की सुरक्षा एजेन्सिया सीमा की सुरक्षा तत्परता से करती है। लेकिन देश के जिम्मेदार नागरिक होने के कारण देश की सुरक्षा का दायित्व हम सब का है। यदि कोई संदिग्ध व्यक्ति या वस्तु दिखे तो इसकी सूचना तुरन्त पुलिस को दें।

आज के डिजीटल युग में सोशल मीडिया का प्रचलन दिनो दिन बढ़ा है, प्रत्येक व्यक्ति के हाथ में स्मार्ट फोन / टेबलेट है तथा वह सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते है। किसी को जाने बिना ही फ्रेन्ड रिक्वेस्ट भेज देेते है तथा अनजान व्यक्ति की फ्रेन्ड रिक्वेस्ट स्वीकार कर लेते है इस सम्बन्ध में प्रत्येक व्यक्ति को सजग रहना होगा। सोशल मीडिया पर सोच-समझकर ही फै्रन्डस बनावे एवं विचार व्यक्त करें तथा कोई भी फोटो/विडियो/आॅडियो काॅपी-पेस्ट करने से पहले उसके बारे में संतुष्टि कर ले कि वह देश की सुरक्षा व्यवस्था या धार्मिक भावना को ठेस पहुंचाना वाला नहीं हो, ताकि देश की सुरक्षा व्यवस्था एवं आपसी भाईचारा बना रहे। 

जैसलमेर सीमावर्ती जिला होने से हम सब का अतिरिक्त दायित्व है कि जाति, धर्म, साम्प्रदायिकता से उपर उठकर जैसलमेर जिले का सुरक्षित रखे व संयुक्त रूप से विकास की ओर अग्रसर करें जिससे देश की एकता, अखण्डता व आपसी सौहार्द कायम रह सकें।

जिला जैसलमेर में साम्प्रदायिक सौहार्द के रूप में विख्यात बाबा रामदेवजी का मेला लगता है। वर्तमान में बाबा के दर्शनार्थ राज्य के साथ-साथ देश के विभिन्न जगहों से दर्शनार्थियों का आवागमन हो रहा है। इस सम्बन्ध में दर्शनार्थियों व जिलेवासियों से मेरा अनुरोध है कि मेले में व्यवस्था बनाये रखे तथा आने-जाने वाली सड़कों पर भी ऐसी व्यवस्था हो कि आने वाले दर्शनार्थी सहज एवं सुरक्षित महसूस करें, क्योंकि हमारे यहां आने वाल हर दर्शनार्थी/पर्यटक हमारा अतिथि है ‘‘अतिथी देवों भवः’’ भारत की संस्कृति है तो अतिथियों का सम्मान तथा सुरक्षा करना हमारी जिम्मेदारी है जिसे हमें सजग रहकर पूरा करना है।

वर्तमान मेें जैसलमेर का उतरोत्तर विकास हो रहा है, यहां पर खनिजों व प्राकृतिक उर्जा का विशाल भण्डार है तथा इसके कारण विभिन्न प्रकार के औद्योगिक संस्थानों का विकास हुआ है। दूसरी ओर इंदिरा गांधी नहर की वजह से जिले की काया पलट हो गई है। रेगिस्तान के रूप में जाना जाने वाला जिला हरा-भरा एवं पयर्टन नगरी तथा विकसित जिले की श्रैणी में आ रहा है। 

जैसलमेर के विकास के लिए प्रत्येक व्यक्ति को विकासोन्मुख सोच विकसित करनी चाहिए क्योंकि आज जैसलमेर मेें खनिज, उद्योग, पर्यटन व नहर के कारण विकास हुआ है यदि प्रत्येक व्यक्ति उपलब्ध संसाधनों का सकारात्मक रूप से व विकासोन्मुख उपयोग करें तो जिले का वर्तमान से तीन-चार गुणा तेजी से विकास हो सकता है तथा जैसलमेर देश व राज्य के आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण योगदान कर सकता है।

अपनी बात को समाप्त करने पहले मैं चाहुंगा कि 71वें स्वतंत्रता दिवस के इस पावन पर्व पर हम संकल्प ले कि: 

"जाति, धर्म व साम्प्रदायिकता की भावना से उपर उठकर सजग, स्वच्छ, सम्पन्न एवं सुदृढ समाज का निर्माण करें एवं भारत देश की एकता, अखण्डता एवं सम्प्रभुता बनाये रखें।"

हमारी स्वच्छ मानसिकता ही स्वतंत्र भारत की पहचान है।

                 जय हिन्द




Comments

  1. गौरव यादव एक अच्छे आईपीएस हैं जहाँ भी जाएंगे मैं उम्मीद करता हूँ वहां सिस्टम को सुधारेंगे।
    शुभकामनाये

    ReplyDelete
  2. Happy Independence Day.
    Your commitment towards society is appreciable.

    ReplyDelete
    Replies
    1. Happy Independence day and Thanks a lot for the appreciation.

      Delete

Post a Comment

Popular posts from this blog

कर्ण और कृष्ण का संवाद - रामधारी सिंह 'दिनकर'

Following is excerpt from poem Rashmirathi written by Ram dhari singh dinkar. Karna reply to Krishna when he told story of his birth and ask him to join pandava side. सुन-सुन कर कर्ण अधीर हुआ, क्षण एक तनिक गंभीर हुआ,  फिर कहा "बड़ी यह माया है, जो कुछ आपने बताया है  दिनमणि से सुनकर वही कथा मैं भोग चुका हूँ ग्लानि व्यथा  मैं ध्यान जन्म का धरता हूँ, उन्मन यह सोचा करता हूँ,  कैसी होगी वह माँ कराल, निज तन से जो शिशु को निकाल  धाराओं में धर आती है, अथवा जीवित दफनाती है?  सेवती मास दस तक जिसको, पालती उदर में रख जिसको,  जीवन का अंश खिलाती है, अन्तर का रुधिर पिलाती है  आती फिर उसको फ़ेंक कहीं, नागिन होगी वह नारि नहीं  हे कृष्ण आप चुप ही रहिये, इस पर न अधिक कुछ भी कहिये  सुनना न चाहते तनिक श्रवण, जिस माँ ने मेरा किया जनन  वह नहीं नारि कुल्पाली थी, सर्पिणी परम विकराली थी  पत्थर समान उसका हिय था, सुत से समाज बढ़ कर प्रिय था  गोदी में आग लगा कर के, मेरा कुल-वंश छिपा कर के  दुश्मन का उसने काम किया, माताओं को बदनाम किया  माँ का पय भी न पीया मैंने, उलटे अभिशाप लिया मैंने  वह तो यशस्विनी बनी रह

रश्मिरथी ( सप्तम सर्ग ): कर्ण वध - रामधारी सिंह 'दिनकर'

1 निशा बीती, गगन का रूप दमका, किनारे पर किसी का चीर चमका। क्षितिज के पास लाली छा रही है, अतल से कौन ऊपर आ रही है ? संभाले शीश पर आलोक-मंडल दिशाओं में उड़ाती ज्योतिरंचल, किरण में स्निग्ध आतप फेंकती-सी, शिशिर कम्पित द्रुमों को सेंकती-सी, खगों का स्पर्श से कर पंख-मोचन कुसुम के पोंछती हिम-सिक्त लोचन, दिवस की स्वामिनी आई गगन में, उडा कुंकुम, जगा जीवन भुवन में । मगर, नर बुद्धि-मद से चूर होकर, अलग बैठा हुआ है दूर होकर, उषा पोंछे भला फिर आँख कैसे ? करे उन्मुक्त मन की पाँख कैसे ? मनुज विभ्राट् ज्ञानी हो चुका है, कुतुक का उत्स पानी हो चुका है, प्रकृति में कौन वह उत्साह खोजे ? सितारों के हृदय में राह खोजे ? विभा नर को नहीं भरमायगी यह है ? मनस्वी को कहाँ ले जायगी यह ? कभी मिलता नहीं आराम इसको, न छेड़ो, है अनेकों काम इसको । महाभारत मही पर चल रहा है, भुवन का भाग्य रण में जल रहा है। मनुज ललकारता फिरता मनुज को, मनुज ही मारता फिरता मनुज को । पुरुष की बुद्धि गौरव खो चुकी है, सहेली सर्पिणी की हो चुकी है, न छोड़ेगी किसी अपकर्म को वह, निगल ही जायगी सद्धर्म को वह । मरे अभिमन्यु अथवा भीष्म टूटें, पिता के प्राण

एक पुलिसवाले की व्यथा

लोग अक्सर कहते हैं कि पुलिस सही तरीके से क्राइम कंट्रोल नहीं करती है लेकिन पुलिस करे तो करे क्या। उग्र भीड़ को क्राइम कंट्रोल करने पर आधारित एक लघु कथा। उन्मादी भीड़ हाथों में नंगी तलवारें, लाठी, डंडे लिए पागलों की तरह पुलिस वालों को पत्थर मार मार कर खदेड़ रही थी। उसकी पुलिस भीड़ से अपना असलाह और खुद को बचाते हुए पीछे हट रही थी। थानेदार का सर बुरी तरह फूट गया दो सिपाही उसे सँभालते हुए पीछे हट रहे थे बड़े अफसर, एस डी ऍम, सब मौके से गायब थे। ऑर्रडर देने वाला कोई दूर दूर तक नहीं था। भीड़ हावी होती जा रही थी। सब को कहीं न कही चोट लगी थी।भीड़ को लाठी डंडो से काबू करने के हालात तो बिलकुल भी नहीं थे। सबकी जान पर बनी हुई थी परंतु हाथ में लोड राइफल होते हुए भी जवान गोली चलाने से बच रहे थे, कैसी कायर स्तिथि थी। अचानक हवलदार बुधना को भीड़ ने पकड़ लिया और एक आदमी ने बुधना के सर पर कैरोसिन की गैलन उंडेल दी और दूसरे ने माचिस निकाली ही थी की धाँय की आवाज हुई और माचिस वाला जमीं पर लुढकने लगा।दूसरी आवाज में तेल के गैलन वाला जमीं पर कला बाजी खा रहा था । भीड़ जहां थी वहीँ थम गयी और उलटे पावँ भागने लगी लेकिन......अ

Scheme for creation of National Optical Fiber Network for Broadband connectivity of Panchayats

The Union Cabinet recently approved a scheme for creation of a National Optical Fiber Network (NOFN) for providing Broadband connectivity to Panchayats. The objective of the scheme is to extend the existing optical fiber network which is available up to district / block HQ’s level to the Gram Panchayat level initially by utilizing the Universal Service Obligation Fund (USOF). The cost of this initial phase of the NOFN scheme is likely to be about Rs.20,000 crore. A similar amount of investment is likely to be made by the private sector complementing the NOFN infrastructure while providing services to individual users. In economic terms, the benefits from the scheme are expected through additional employment, e-education, e-health, e-agriculture etc. and reduction in migration of rural population to urban areas. As per a study conducted by the World Bank, with every 10% increase in broadband penetration, there is an increase in GDP growth by 1.4%. NOFN will also facilitate implemen

किसको नमन करूँ मैं भारत? - Kisko Naman Karu Mein Bharat?

A poem dedicated to the nation written by Ramdhari Singh "dinkar"... तुझको या तेरे नदीश, गिरि, वन को नमन करूँ, मैं ? मेरे प्यारे देश ! देह या मन को नमन करूँ मैं ? किसको नमन करूँ मैं भारत ? किसको नमन करूँ मैं ? भू के मानचित्र पर अंकित त्रिभुज, यही क्या तू है ? नर के नभश्चरण की दृढ़ कल्पना नहीं क्या तू है ? भेदों का ज्ञाता, निगूढ़ताओं का चिर ज्ञानी है मेरे प्यारे देश ! नहीं तू पत्थर है, पानी है जड़ताओं में छिपे किसी चेतन को नमन करूँ मैं ? भारत नहीं स्थान का वाचक, गुण विशेष नर का है एक देश का नहीं, शील यह भूमंडल भर का है जहाँ कहीं एकता अखंडित, जहाँ प्रेम का स्वर है देश-देश में वहाँ खड़ा भारत जीवित भास्कर है निखिल विश्व को जन्मभूमि-वंदन को नमन करूँ मैं ! खंडित है यह मही शैल से, सरिता से सागर से पर, जब भी दो हाथ निकल मिलते आ द्वीपांतर से तब खाई को पाट शून्य में महामोद मचता है दो द्वीपों के बीच सेतु यह भारत ही रचता है मंगलमय यह महासेतु-बंधन को नमन करूँ मैं ! दो हृदय के तार जहाँ भी जो जन जोड़ रहे हैं मित्र-भाव की ओर विश्व की